भारतीय रेलवे पर निबंध | Indian Railways Essay In Hindi

भारतीय रेलवे पर निबंध

भारतीय रेलवे पर निबंध | Indian Railways Essay In Hindi

भारतीय रेल  एशिया का दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क तथा एकल सरकारी स्वामित्व वाला विश्व का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। भारतीय रेलवे 16 अप्रैल 1853 को शुरु की गई थी | भारत में पहली रेलगाड़ी ने बम्बई (मुंबई ) से थाणे के मध्य 34 किमी  की दूरी तय की थी | तब से लेकर अब तक भारतीय रेलवे ने बहुत तेज़ी से प्रगति की है और आज यह  एशिया की सबसे बड़ी और  विश्व की दूसरी सबसे बड़ी रेल-प्रणाली  बन गयी है |
भारतीय रेल नेटवर्क को 17  क्षेत्रो में बाँटा गया है और इसमें लगभग 14 लाख लोग काम करते है ,जो देश के किसी भी उपक्रम में सबसे अधिक है तथा केन्द्रीय कर्मचारियों की कुल संख्या का 40 % है | इसके प्रशासन एवं प्रबंधन के लिए 21 रेलवे बोर्डो का भी गठन किया गया है | प्रत्येक रेलवे बोर्ड केन्द्रीय केबिनेट के रेलवे मंत्रालय के अधीन होता है |
आज भारत की रेल पटरियों पर प्रतिदिन 19 हजार से भी अधिक ट्रेनें दौड़ती रहती हैं, जिनमें 12 हजार यात्री ट्रेनें और 7 हजार मालवाहक ट्रेनें हैं । भारतीय रेलवे में कई प्रकार की रेलगाड़ियां हैं ।

भारतीय रेलवे में कई प्रकार की रेलगाड़ियाँ हैं।मेल एवं एक्सप्रेस रेलगाड़ियों के अतिरिक्त, पर्यटन के लिए विशेष रेलगाड़ियाँ भी चलाई जाती हैं।
बुलेट ट्रेन

इधर हाल के वर्षों में भारतीय रेल पटरियों पर हाई स्पीड बुलेट ट्रेन चलाए जाने की चर्चा ज़ोरों पर है। वर्ष 2014 के अन्तरिम रेल बजट में भारत में बुलेट ट्रेन परियोजनाओं आधारभूत संरचनात्मक विकास हेतु 100 करोड़ का प्रस्ताव रखा गया है
इसी वर्ष दिल्ली से आगरा के मध्य 160 किमी प्रति घण्टे की गति से दौड़ने वाली सेमी हाई स्पीड ट्रेन के सफल परीक्षण ने यह साबित कर दिया है कि भारत आने वाले दिनों में देश में बुलेट ट्रेन दौड़ाकर तकनीक और रफ्तार के क्षेत्र में विश्व के विकसित देशों के समकक्ष आ खड़ा होगा, वर्ष 2021-22 तब मुम्बई से अहमदाबाद के मध्य देश में पहली बुलेट ट्रेन चलाने का लक्ष्य रखा गया है।

सुविधाएँ

भारतीय रेल अपने यात्रियों को विविध प्रकार की सुविधाएँ प्रदान करती है ,इसमें तमाम वे सुविधाएँ भी सम्मलित हैं,जो हमारे दैनिक जीवन से सम्बंधित होती हैं, जैसे – भोजन-जलपान , विश्राम गृह , व्हील चेयर, प्राथमिक उपचार ,बुक स्टॉल आदि | भारतीय रेल में लम्बी दूरी की यात्रियों के लिए आरक्षण की व्यवस्था है |
सुरक्षा 
रेल यात्रा के दौरान कई बार यात्रियों को लूटपाट, हिंसा का भी सामना करना पड़ता है । इन स्थितियों से निपटने के लिए भारतीय रेलवे ने रेलवे पुलिस बल की व्यवस्था कर रखी है, जो ऐसी स्थितियों से निपटने में पूरी तरह सक्षम है ।
रेलवे पुलिस द्वारा यथासम्भव प्रयास किया जाता है कि यात्रियों को यात्रा के दौरान किसी भी प्रकार की अप्रिय स्थिति का सामना न करना पड़े । भारतीय रेल की यह प्रशासनिक इकाई रेलवे अपराधों पर नियन्त्रण के साथ-साथ आकस्मिक दुर्घटनाओं में यात्रियों का सहयोग करती है ।
आमदनी
भारतीय रेलवे केवल लोगो की  परिवहन से ही नहीं बल्कि देश के एक कोने से दूसरे कोने तक माल -वास्तु पहुंचने की काम भी आती है। कच्चे माल को कारखानों तक रेल क द्वारा भेजा जाता है और फिर तैयार वस्तुओ को बाजार तक लाया जाता है। रेल क द्वारा तेल,कोयला,लोहा,सीमेंट और अन्य चीज़ो की परिवहन की जाती है।

Post a Comment

0 Comments